बेलारूस के राष्ट्रपति लुकाशेंको के विरोध में छात्रों ने गाया गाना, घसीटती हुई ले गई पुलिस |

बेलारूस के राष्ट्रपति लुकाशेंको के विरोध में छात्रों ने गाया गाना,

घसीटती हुई ले गई पुलिस |

 

बेलारूस के राष्ट्रपति लुकाशेंको के विरोध में छात्रों ने गाया गाना, घसीटती हुई ले गई पुलिस | बेलारूस (Belarus) की पुलिस ने शुक्रवार को राजधानी मिंस्क में विश्वविद्यालय के पांच छात्रों को गिरफ्तार (Five Stundent Arrested) किया. सोशल मीडिया फुटेज में कई दर्जन छात्रों को एक साथ जोर जोर से यह गीत गाते हुए दिखाया गया है ‘क्या आपने जनता का गीत सुना है’.

मिंस्क. बेलारूस (Belarus) की पुलिस ने शुक्रवार को राजधानी मिंस्क में विश्वविद्यालय के पांच छात्रों को गिरफ्तार (Five Stundent Arrested) किया.

सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए कई वीडियो में भीड़ भरे गलियारों से कई अधिकारियों द्वारा हिरासत में लिए जा रहे लोगों के अराजक दृश्य दिखाए गए थे.

छात्रों को पुलिस जमीन पर घसीट कर ले जाती हुई दिख (Student dragged Away by Police) रही है.

छात्रों की गिरफ्तारी मिंस्क स्टेट लिंग्विस्टिक इंस्टीट्यूट की इमारत से की गई.

गिरफ्तारी की चेतावनी कई दिनों पहले ही दी गई थी.

छात्रों से कहा गया था कि यदि वे राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको के पिछले महीने के विवादित चुनाव के खिलाफ कई दिनों से चल रहे प्रदर्शनों को नहीं रोकेंगे तो

मजबूरन उन्हें गिरफ्तार करना पड़ेगा.

 

छात्र गा रहे थे ये गाना- ‘क्या आपने जनता का गीत सुना है’

सोशल मीडिया फुटेज में कई दर्जन छात्रों को एक साथ जोर जोर से यह गीत गाते हुए दिखाया गया है ‘क्या आपने जनता का गीत सुना है’.

यह विरोध गीत गाते हुए छात्रों के पीछे लाल सफेद झंडा टंगा हुआ था जो क्रांति का प्रतीक है.

सोशल मीडया पर वायरल हो रही एक अन्य क्लिप में छात्रों को पुलिस के साथ बहस करते हुए दिखाया गया

क्योंकि पुलिस वहां से गिरफ्तार किए गए लोगों को हटा रही थी.

छात्रों ने यूनिवर्सिटी प्रशासन के एक अधिकारी से इस घटना पर अपनी प्रतिक्रिया देने की विनती की.

 

छात्रों पर अवैध प्रदर्शन में भाग लेने का आरोप

आंतरिक मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि ये गिरफ्तारियां एक प्रशासनिक प्रक्रिया का हिस्सा थीं

और शुक्रवार को हुई घटनाओं विशेषकर गाने से इसका कोई संबंध नहीं था.

सोशल मीडिया पोस्ट और बेलारूसी मीडिया आउटलेट्स के अनुसार

बाद में शुक्रवार को इन पांचों छात्रों को पुलिस हिरासत से रिहा कर दिया गया.

इन पर अवैध विरोध प्रदर्शन में भाग लेने का आरोप लगाया था.

 

राष्ट्रपति लुकाशेंको की 9 अगस्त की चुनावी जीत के बाद शैक्षणिक वर्ष के पहले दिन

1 सितंबर को देश भर में हजारों छात्रों ने विरोध प्रदर्शन में भाग लिया था.

मिंस्क की एक अदालत ने छह पत्रकारों को तीन तीन दिन की सजा सुनाते हुए जेल में डाल दिया गया है.

पत्रकारों को अवैध विरोध प्रदर्शनों में भाग लेने का दोषी पाया गया था.

पत्रकारों के बेलारूसी एसोसिएशन ने इस गिरफ्तारी पर विरोध प्रदर्शित किया है.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *